कइसन बानी मोरेे गांव कै कहानी… कइसन बानी मोरेे गांव कै कहानी…
सरोज यादव आजमगढ़ कइसन बानी मोरेे गांव कै कहानी।सुन लेइ  रउआ तनी हमरी जुबांनी।।चर चर बोले हरदम घन बसवरिया,फागुन में लदि जाले बौर से डरिया, रही... कइसन बानी मोरेे गांव कै कहानी…

सरोज यादव आजमगढ़

कइसन बानी मोरेे गांव कै कहानी।सुन लेइ  रउआ तनी हमरी जुबांनी।।चर चर बोले हरदम घन बसवरिया,फागुन में लदि जाले बौर से डरिया, रही रही कोयल  कूके सुमधुर वानी।सुनि लेईं रउआ तनी हमरी जुबानी।। धनवा के खेती लहकै महकै ले धनिया, कोरा के ललन जइसन होखेले जतनिया,  थोरि बानी महिमा हम जेतनी बखानी।सुनि लेईं रउआ तनी हमरी जुबानी।।  बचपन से देखत बानी गांव में बिजुरिया, गउआं के पूरब में लागे ले बजरिया, केहुके ना  भरत देखली कुअना से पानी।सुनिलेईं रउआ तनी हमरी जबानी।।बाबा की जमाने से खुलल स्कूल बा,बनल नहरिया पे  लामे लामे पूल बा,फिर भी अधूरी वा विकास के कहानी ।सुन लेई रउआ तनी हमरी जबानी। गउआ में बहली जब से हवा राजनीति के,महिमा घटति बानी दिन दिन प्रीति के,मिटत जात बानी सौहार्द के निशानी।सुनि लेईं रउआ तनी हमरी जबानी। कइसन बानी मोरे गांव की कहानी। सुनि लेईं रउआ तनी हमरी जवानी।। 

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *