सिद्धपीठ मां कामाख्या भवानी मंदिर:जहां पूरी होती है भक्तों की मुराद सिद्धपीठ मां कामाख्या भवानी मंदिर:जहां पूरी होती है भक्तों की मुराद
दिनेश कुमार वैश्य बाबा बाजार मवई अयोध्या/विकास खंड मवईमुख्यालय से लगभग 31 किलोमीटर दूर स्थित जंगल मे गोमती नदी के समीप विद्यमान प्रख्यात सिद्धपीठ... सिद्धपीठ मां कामाख्या भवानी मंदिर:जहां पूरी होती है भक्तों की मुराद

दिनेश कुमार वैश्य

बाबा बाजार मवई अयोध्या/विकास खंड मवईमुख्यालय से लगभग 31 किलोमीटर दूर स्थित जंगल मे गोमती नदी के समीप विद्यमान प्रख्यात सिद्धपीठ मां कामाख्या भवानी मंदिर व इसके परिसर में लगने वाला 10 दिवसीय शारदीय नवरात्र मेला वर्तमान समय पूरे शबाब पर है यहां दूरदराज से आने वाले देवी भक्तों जिसमें पुरुषों महि लाओं किशोरों तरुणीयो के सिवा नन्हे मुन्ने बच्चे भी शामिल हैं जिनके द्वारा मां कामाख्या भवानी मंदिर की चौखट पर माथा टेक कर अपने मनवांछित फल पाए जाने की कामना की जाती है यहां बुजुर्गों की माने तो मां कामाख्या भवानी के प्रतिअटूट विश्वास, सच्चे मन तथा श्रद्धा के साथ जिसने भी मां की चौखट पर माथा टेका है उसकी समस्त मनोकामनाएं पूर्ण हुई है तथा भव बाधा उसके समीप नहीं भटक सकती


ऐसा लोगों का विश्वास है,मां कामाख्या भवानी धाम मंदिर के मुख्य पुजारी पंडित बृज किशोर मिश्र तथा पंडित संतोष कुमार मिश्र (नायब) ने संयुक्त रूप से बताया कि इस बार कोरोना महामारी संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर विगत वर्षों की अपेक्षा इस वर्ष देवी भक्तों ,श्रद्धालुओं की भीड़ कम है तथा दूर दराज से आने वाले दुकानदारों/ व्यापारियों की भी संख्या पिछले वर्षो की अपेक्षा बहुत कम है इसके बावजूद भी जो श्रद्धालु व देवी भक्त मां की चौखट पर माथा टेकने के लिये आते हैं उन सबों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए विधिक ढंग से मां कामाख्या भवानी मंदिर की चौखट पर माथा टेकने की अनुमति पुलिस प्रशासन की व्यवस्था के बीच दी जाती है

असामाजिक तत्वों तथा चोर ऊचक्को पर कड़ी निगरानी रखने के साथ साथ मेले में आये श्रद्धालु देबी भक्तों को कोई परेशानी ना हो इसके लिए मंदिर व परिसर में, अस्थाई पुलिस चौकी के अलावा कई स्थानों पर सी सी टीवी कैमरा लगे हुए हैं जिस पर मेला प्रबंध कमेटी तथा पुलिस प्रशासन की पैनी नजर रहती है

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *