डीएम का आदेश भी बेअसर, नहीं हुई  झिलीतारा तालाब की सफाई डीएम का आदेश भी बेअसर, नहीं हुई  झिलीतारा तालाब की सफाई
राजेश मिश्रा रुदौली-अयोध्या। जिलाधिकारी के आदेश के 6 माह बाद भी नगर पालिका रुदौली प्रशासन द्वारा ऐतिहासिक तालाब झिलीतारा की सफाई का कार्य न... डीएम का आदेश भी बेअसर, नहीं हुई  झिलीतारा तालाब की सफाई

राजेश मिश्रा


रुदौली-अयोध्या। जिलाधिकारी के आदेश के 6 माह बाद भी नगर पालिका रुदौली प्रशासन द्वारा ऐतिहासिक तालाब झिलीतारा की सफाई का कार्य न कराए जाने से आवाम में रोष व्याप्त है। मंगलवार को नगरपालिका बोर्ड की बैठक में यह मुद्दा गूंजेगा। झिलीतारा का जीर्णोद्धार न होने से तालाब का अस्तित्व समाप्त होता जा रहा है। रुदौली नगर के बीचो-बीच कजियाना व पूरेखान सहित अन्य कई वार्डो की सीमाओं में सिथत 32 बीघा का ऐतिहासिक झिलीतारा तालाब के चारों ओर किनारे की भूमि पर लोगों ने अतिक्रमण कर दर्जनों मकान बना लिया है। जिससे तालाब के अस्तित्व पर गंभीर खतरा मंडरा रहा है ।तीन दशक से इस ऐतिहासिक तालाब की नगरपालिका रुदौली द्वारा सफाई न कराए जाने से पानी की जगह जलकुंभी व जंगली घास भरी पड़ी है। तीन दशक पूर्व जल संरक्षण के उद्देश्य से नगरपालिका द्वारा लगभग 40 फीट गहरे इस तालाब की सफाई कराई गई थी। पालिका क्षेत्र में 1 दर्जन से अधिक मोहल्लों के बरसात का व घरों से निकलने वाला गंदा पानी तालाब में जाता है। लेकिन इस प्राचीन तालाब की सफाई कराने के नाम पर नगर पालिका प्रशासन ने मुंह फेर लिया है। जिससे तलाब का अस्तित्व खतरे में पड़ गया है। पांच दशक से कभी न सूखने वाला तालाब, पानी की जगह जलकुंभियों व जंगली घास से पीट पडी है। जिससे बरसात का पानी तालाब में भरने के बजाय आसपास के दर्जनो घरों में भर जाता है। तालाब में पानी कम गाद ज्यादा होने से भूगर्भीय जल स्रोत पर गंभीर खतरा मंडरा रहा है। यदि समय रहते शासन प्रशासन द्वारा जल संरक्षण के लिए जरूरी कदम नहीं उठाए गए तो आने वाले कुछ वर्षों में हजारों लोगों को जल समस्या से जूझना पड़ सकता है। तालाब में पानी की जगह गाद होने से मत्स्य पालन से जुड़े दर्जनों मजदूरों के रोजी-रोटी भी छिन गई है। इसी तालाब के किनारे पर रुदौली का एकलौता सिनेमाघर कुमार टाकीज भी स्थित है। तालाब के किनारे चारों ओर बने सैकड़ों मकान स्वामियों ने अधिकांश शौचालय का टैंक बनवाने के बजाय शौचालय का पानी सीधा तलाब में गिरा दिया है। जल जीव के लिए कभी जीवनदायिनी तलाब आज अपना अस्तित्व नहीं बचा पा रहा है। वहीं कूड़ा व गंदगी भी लोग तलाब में फेंक कर उसे पाटने का काम भी कर रहे हैं ।इस तालाब में जलकुंभी का पूरी तरह से कब्जा हो गया है।
रुदौली नगर के मोहल्ला टेढ़ी बाजार निवासी वरिष्ठ पत्रकार अजय कुमार गुप्ता की अगुवाई में जिलाधिकारी अनुज कुमार झा को शिकायती पत्र इसी वर्ष मार्च महीने में दिया गया था। जिस पर नगरपालिका रुदौली के अधिशासी अधिकारी रणविजय सिंह को डीएम ने निर्देशित किया था कि झिलीतारा तालाब को पुनर्जीवित करने के लिए स्वयं इस पुनीत कार्य का श्रीगणेश करना चाहते हैं। इस आदेश के बावजूद नपाप प्रशासन ने इस महत्वपूर्ण कार्य को ठंडे बस्ते में डाल रखा है। जागरूक नागरिकों ने जिलाधिकारी अयोध्या से रुदौली के ऐतिहासिक तालाब झिली तारा को अविलंब नगरपालिका प्रशासन से जनहित में खुदाई कराकर सफाई कराने की मांग की है।

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *