कबीर चौरा का हो रहा कायाकल्प कबीर चौरा का हो रहा कायाकल्प
   सत्य प्रकाश वर्मा  संत कबीर नगर।सद्गुरु कबीर की महापरिनिर्वाण स्थली मगहर को पर्यटन मंत्रालय स्वदेश दर्शन योजना में शामिल कर इसका कायाकल्प कर... कबीर चौरा का हो रहा कायाकल्प

   सत्य प्रकाश वर्मा 

संत कबीर नगर।सद्गुरु कबीर की महापरिनिर्वाण स्थली मगहर को पर्यटन मंत्रालय स्वदेश दर्शन योजना में शामिल कर इसका कायाकल्प कर रहा है।जिससे कबीर चौरा को विश्व पटल के पर्यटन मानचित्र पर स्थापित किया जा सके।ताकि कबीर निर्वाण स्थली पर्यटकों को आकर्षित करने व कबीर की वाणी को जनजन तक पहुंचाने में सफल हो।इसके साथ कबीर पर शोध कार्य करने वाले शोधार्थी छात्रों को कहीं और भटकना न पड़े।शोधार्थीयों के लिए संतकबीर अकादमी की स्थापन का कार्य त्वरित गति से चल रहा है।इसके साथ ही पर्यटन विभाग द्वारा वाप्कोस कांस्ट्रक्शन कम्पनी के माध्यम से20प्रोजेक्टों पर भी विकास के कार्य से होरहे है।विकास कार्यों के शीघ्र पूर्ण होने की संभावना की जा रही है।   विश्व विख्यात महान सूफी संत कबीर की महापरिनिर्वाण स्थली होने के कारण मगहर विश्व पटल के केन्द्र मे जाना जाता है।कबीर ने सभी धर्मो में व्याप्त आडम्बरों,रुढ़ियों और अन्धविश्वास का मजबूती के साथ विरोध किया था।इनकी वाणी आज भी पूरे विश्व में प्रासंगिक हैं।देश ही नहीं पूरे विश्व मे सूफी सन्त कबीर के अनुयायी हैं। कबीर ने पूरी उम्र सत्य,प्रेम,शांति का संदेश लोगों तक अपने बीजक,सबद, साखी, रमैनी के माध्यम से खूबसूरत अंदाज जन जन में पहुंचाने का प्रयास किया है।कबीर निर्वाण स्थली का दर्शन करने देश ही नहीं विदेश के पर्यटकों के साथ ही देश के विभिन्न प्रान्तों से कबीर पंथ के अनुयायी व सन्त आते रहते हैं।ऐसे में कबीर दर्शन को आने वाले लोगों को कोई तकलीफ न हो इसके निवारण के लिये पर्यटन विभाग के द्वारा विभिन्न विकास के कार्य कराये जारहे हैं।जिससे कबीर स्थली पर्यटककों के लिए आकर्षण का केंद्र बन सके।इसका श्रेय पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी को जाता है।जिनके प्रयास से वर्ष 2018 में प्रधान-मंत्री नरेंद्र मोदी ने 24करोड़ की लागत से बनने वाले कबीर अकाडमी का शिलान्यास किया था।कबीर अकादमी भवन का निर्माण त्वरित गति से किया जा रहा है।ऐसे में कबीर के जीवन पर शोध करने वाले शोधार्थी छात्रों को इधर उधर भटककर न पड़े।जिससे अकादमी में सारी सुविधाओं की व्यव्स्था की जा रही है।ताकि शोधार्थी अकादमी में रहकर कबीर के बारे में और भी बारीकी से जानने का मौका मिलेगा।साथ ही शोध कार्यों में कोई अड़चन भी नहीं आपायेगी। कार्यदायी संस्था आवास विकास निगम ने कबीर अकादमी के निर्माण की जिम्मेदारी एसएन ऐंड कम्पनी को दी है।जिसके प्रोजेक्ट मैनेजर सूरज पटेल व सन्तोष यादव ने बताया कि अकादमी में शोध छात्रों के लिये हॉस्पिटल की बिल्डिंग,आटिटोरियम,टाइप 1टाइप 4,के अलावा 10-10बेड के हॉस्टल फर्स्ट फ्लोर,ग्राउंड का निर्माण कराया जारहा है।इस सम्बंध में पूछे जाने पर कार्यदायी संस्था आवास विकास के अवरभियन्ता रवि खरवार ने बताया कि हॉस्टल का फर्स्ट फ्लोर और प्लास्टर का कार्य,दूसरे फ्लोर का निर्माण,मिट्टी के कार्य,नीचा स्थान होने की वजह से 6मीटर कुर्सी का कार्य के साथ ही आटीटोरियम की स्लैब डालना आदि का कार्य पूर्ण किया जारहा  है।संस्कृति विभाग से प्रोजेक्ट आया है।जिसे शीघ्र पूर्णकर लिया जाएगा।–इन्सर्ट—20प्रोजेक्टों पर विकास के कार्यों की प्रगति में आई कमीसंत कबीर नगर।कबीर चौरा परिसर में होरहे विकास के 20प्रोजेक्टों पर कार्य वाप्कोस कांस्ट्रक्शन कम्पनी द्वारा किया जारहा है।जिनमें पार्क का सुंदरीकरण,आमी घाट सुंदरीकरण,कैफिटेरिया,दो शौचालय,बाउंड्रीवाल,कलरफुल फोकस लाइट,सोलर लाइट,साउंड एंड लाइट शो,व्याख्यान/प्रदर्शनी,10दुकानें,कबीर तलैया घाट,घास के मैदान व पथ,म्यूजिकल फौवारा आदि प्रोजेक्टों का कार्य धीमी गति से चल रहा है।निर्माण कार्य का समय से पूरा नही होने में कोरोना के साथ ही बरसात ने बाधा पैदा कर दिया है।फिर भी पूरा परिसर शीघ्र विकसित हो पर्यटकों को आकर्षित करने लगेगा।

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *