लालू यादव की सुरक्षा में तैनात नौ जवान कोरोना पॉजिटिव लालू यादव की सुरक्षा में तैनात नौ जवान कोरोना पॉजिटिव
राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को कोरोना वारयस संकट से बचाने के लिए एक तरफ जहां रिम्स प्रसाशन ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है वहीं, लालू... लालू यादव की सुरक्षा में तैनात नौ जवान कोरोना पॉजिटिव

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को कोरोना वारयस संकट से बचाने के लिए एक तरफ जहां रिम्स प्रसाशन ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है वहीं, लालू की सुरक्षा में तैनात नौ जवान कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। गुरुवार शाम को पुलिसकर्मियों की रिपोर्ट आने के बाद लालू का इलाज कर रहे डॉक्टर उमेश प्रसाद ने रिम्स प्रबंधन और हादसा प्रमुख (इंसिडेंट कमांडर) को इसकी सूचना दी है।सुरक्षाकर्मियों को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उन्हें तत्काल हटाने और नए पुलिसकर्मियों को तैनात करने को कहा गया है। तैनाती से पहले नए सुरक्षाकर्मियों की भी जांच की जाएगी। हालांकि, लालू यादव का इलाज कर रहे डॉक्टर की माने तो कोई भी जवान प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से लालू के संपर्क में नहीं आया था। लालू यादव की फिलहाल जांच नहीं की जाएगी, लेकिन एक सप्ताह तक उनपर विशेष नजर रखी जाएगी।
लालू प्रसाद यादव को कोरोना वारयस संकट से बचाने के लिए बुधवार (5 अगस्त) को रिम्स निदेशक के बंगले में स्थानांतरित कर दिया गया था। गौरतलब है कि लालू यादव चारा घोटाले के तीन विभिन्न मामलों में चौदह वर्ष तक की कैद की सजा पाने के बाद 23 दिसंबर, 2017 से इलाज के लिए न्यायिक हिरासत में रिम्स में भर्ती हैं।रिम्स की कार्यकारी निदेशक डॉ. मंजू गड़ी ने बताया था कि लालू प्रसाद को रिम्स निदेशक के बंगले में स्थानांतरित करना पड़ा क्योंकि उन्हें रिम्स के पेइंग वार्ड में कोरोना वायरस संक्रमण होने की आशंका थी।उन्होंने बताया था कि झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, राज्य सरकार के अधिकारियों एवं रिम्स के सामूहिक फैसले के तहत लालू प्रसाद यादव को रिम्स निदेशक के बंग्ले में स्थानांतरित किया गया है। रिम्स निदेशक ने बताया था कि लालू यादव की चिकित्सा कर रहे डॉ. उमेश प्रसाद एवं उनके सहयोगी किसी चिकित्सक तथा चिकित्सा कर्मी को कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं पाया गया है, लेकिन उनके वार्ड के बाहर सुरक्षा में तैनात तीन सुरक्षाकर्मियों को कुछ दिनों पहले कोरोना वायरस संक्रमित पाया गया था, एहतियातन लालू को कोरोना संक्रमण के किसी खतरे से बचाने के लिए निदेशक के बंगले में स्थानांतरित किया गया है।निदेशक ने बताया कि रिम्स निदेशक के बंगले के अलावा रिम्स प्रशासन के पास लालू को रखने के लिए कोई अन्य स्थान नहीं था इसलिए उन्हें बंगले में स्थानांतरित किया गया। उन्होंने यह भी साफ किया कि लालू को बंगले में स्थानांतरित कर देने से अब पेइंग वार्ड के 18 कक्ष आम मरीजों के लिए उपलब्ध हो गए हैं।

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *