सीबीआई के घेरे में सुशांत सिंह का रसोइया सीबीआई के घेरे में सुशांत सिंह का रसोइया
बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले की सीबीआई ने जांच शुरू कर दी है। सूत्रों के अनुसार सीबीआई ने सुशांत सिंह के रसोइये नीरज... सीबीआई के घेरे में सुशांत सिंह का रसोइया

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले की सीबीआई ने जांच शुरू कर दी है। सूत्रों के अनुसार सीबीआई ने सुशांत सिंह के रसोइये नीरज से पूछताछ की है। नीरज ने बताया था कि अभिनेता के आत्महत्या वाले दिन उन्होंने उन्हें जूस दिया था। नीरज से बिहार और मुंबई पुलिस पूछताछ कर चुकी है। उन्होंने ही अभिनेता द्वारा दरवाजा न खोलने की बात कही थी।नीरज सिंह ने एक चैनल से बातचीत में 14 जून से पहले की कहानी बताई है। उन्होंने बताया कि आत्महत्या वाले दिन सुशांत ने उनसे पानी मांगा था और फिर वो ऊपर कमरे में चले गए थे। वहीं रिया चक्रवर्ती 12 जून को सुशांत का घर छोड़कर चली गई थीं।
एक चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा कि सर क्यों चले गए इसका तो हमें भी नहीं पता है। 12 लोगों का स्टाफ था जिसमें से कुछ लोगों को सर ने निकाला था। लॉकडाउन में एक बार रिया ने मुझे भी जाने को कहा था। रिया और सुशांत के रिश्ते को लेकर नीरज ने कहा कि सबकुछ ठीक था। सर उनके साथ बहुत खुश थे। पिछले साल दिसंबर में यूरोप ट्रिप का प्लान बनाया था। छिछोरे का प्रमोशन करने के बाद वो वहां गए थे। वहां से आने के बाद उनकी तबीयत डाउन हो गई थी। सर बहुत दुबले-पतले हो गए थे। नीरज ने बताया कि रिया मैम के साथ उनके भाई शोविक भी आते-जाते रहते थे। हमने कुछ लड़ाई झगड़ा नहीं देखा लेकिन आठ तारीख के आस-पास मैम ने कहा कि मेरे रेग्युलर कपड़े सूटकेस में पैक कर दो। बाकी के कपड़े मैं बाद में ले जाउंगी। 12 तारीख को मैम चली गई थीं। उन्होंने कहा था सर का ध्यान रखना। 14 जून को सर छह बजे उठे थे। उन्होंने थोड़ा वॉक किया। वो आठ बजे के आस-पास आए तब मैं सफाई कर रहा था। सर तब ठीक-ठाक लग रहे थे।रसोइये ने बताया कि सर ने मुझे बोला नीरज मुझे ठंडा पानी लाकर दो। मैं फटाफट भागकर गया ठंडा पानी लेकर आया। फिर कहा कि सब ठीक है न मामला नीचे, मैंने कहा हां सर सब ठीक है। फिर वो रूम में चले गए। इसके बाद मैंने रुम का दरवाजा आराम से खटखटाया लेकिन कोई रिप्लाई नहीं आया। आधे घंटे बाद फिर गए। शेफ गया उसने दो बार सर को कॉल किया। बेल बज रही थी लेकिन रिप्लाई नहीं आया। फिर उनकी बहन को कॉल किया तो उन्होंने कहा कि मैं पहुंच रही हूं। 

नीरज सिंह ने आगे बताया कि हमने ताले-चाबी वाले को फोन किया ताकि पता चले कि क्या है अंदर। पांच-दस मिनट में वो भी आ गया। ताले चाबी वाले ने कहा कि दरवाजा तुड़वाने में पांच मिनट लगेगा और चाबी बनवाओगे तो एक घंटा लगेगा। सिद्धांत ने कहा कि तोड़ दो दरवाजा, देखा जाएगा। मैंने उसे दो हजार रुपये कैश दिए और कहा कि आप जाओ। सिद्धांत अंदर गए और बाहर आकर कहा ‘ओ शिट’। हमने कहा ऐसा क्या हुआ हम भी तो देखें। अदंर गया तो देखा सर फांसी लगाकर लटके हुए थे। मुझसे देखा नहीं गया। एकदम होश उड़ गए। कैसे हो सकता है, क्यों, समझ में नहीं आ रहा था कुछ।

वहीं सुशांत के दोस्तों का कहना है कि जबसे रिया सुशांत सिंह राजपूत की जिंदगी में आई थी, उसने सुशांत को बाकी दुनिया से काटकर अलग कर दिया था। सुशांत न तो अपने दोस्तों से और न ही अपने घर वालों से बात कर पाते थे।

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *