श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लगी रहती है पथलेश्वर नाथ मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लगी रहती है पथलेश्वर नाथ मंदिर में
डॉ. ए एस विशेन /प्रेम प्रकाश कुशीनगर जिले के उत्तरी छोर पर स्थित हनुमानगंज थाना क्षेत्र के ग्राम पथलहवा में स्थित पथलेशवरनाथ मंदिर में... श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लगी रहती है पथलेश्वर नाथ मंदिर में

डॉ. ए एस विशेन /प्रेम प्रकाश

कुशीनगर जिले के उत्तरी छोर पर स्थित हनुमानगंज थाना क्षेत्र के ग्राम पथलहवा में स्थित पथलेशवरनाथ मंदिर में सावन मास सहित अन्य दिनों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लगी रहती है। इस मंदिर को लेकर लोगों में मान्यता है कि एक बार कभी क्षेत्र में आई बाढ़ के कारण चारों तरफ जलजला हो गया था ।इस दौरान उस तट पर कुछ लोग अपना आशियाना बना कर रहने लगे ।गांव के बकरी चरवाहों द्वारा रोज तट के किनारे बकरी चराया जाने लगा। एक चरवाहे ने रास्ते में पड़े पत्थर को तेज वेग से उठाकर नदी के धारा में फेंक दिया। दूसरे दिन जब चरवाहा फिर बकरी लेकर निकला तो वही पत्थर फिर रास्ते में पड़ा हुआ था। दूसरे दिन भी उसने तेज बेग से पत्थर को उठाकर नदी में फेंक दिया। यह क्रम कई दिनों तक चला।उसके बाद चरवाहे ने इसकी जानकारी ग्रामीणों को दी।जिसपर ग्रामीणों ने कौतूहल बस पत्थर को नित्य नदी में फेंकने लगे। पत्थर पुनः नदी से निकलकर उक्त स्थान पर आ जाता था। धीरे धीरे लोगों के मन में पत्थर के प्रति आस्था उमड़ने लगी ।इस पत्थर को उक्त स्थान पर ही स्थापित कर पूजा-अर्चना शुरू कर दी गई। लोगों का मानना है कि यह छोटा सा पत्थर का आकार निरंतर बढ़ता रहता था ।पहले मंदिर में एक हाथ से पत्थर को हटाकर साफ सफाई कर ली जाती थी, किंतु अब इस पत्थर को हटाने में 2 ब्यक्ति लगते हैं। आज उक्त स्थान पर लोगों द्वारा भव्य मंदिर का निर्माण करा कर पूजा अर्चन किया जाता है। श्रद्धालुओं के मुताबिक पथलेस्वरनाथ मंदिर पर भारी श्रद्धालुओं की भीड़ सदैव देखने को मिलती है। शादी, ब्याह, पूजा अर्चन, मांगलिक कार्यों सहित लोग यहां भारी संख्या में यहाँ आते हैं ।मंदिर के चारों तरफ लगे हरे वृक्ष, बगीचा रमणिक प्रतीत होती है। लोगों द्वारा बहुतायत संख्या में उक्त स्थल पर पहुंचकर मांगलिक कार्यों को संपन्न किया जाता है। इसी क्रम में सोमवार को सावन के प्रथम दिन सुबह से ही श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा लॉकडाउन के दौरान मंदिर कपाट बंद हो जाने के कारण वंचित श्रद्धालु भी श्रावण मास के प्रथम सप्ताह के प्रथम दिन बाबा को जल चढ़ाने को आतुर दिखे भीड़ को नियंत्रित करने के लिए तथा श्रद्धालुओं में सोशल डिस्टेंस के पालन हेतु मुकामी पुलिस द्वारा सुरक्षा के चाक-चौबंद किए गए थे थानाध्यक्ष रामअशीष यादव ने बताया कि भोर से ही श्रद्धालुओं का आने का क्रम जारी है। लोग पैदल, निजी साधनों, व सवारी गाड़ियों से मंदिर आ रहे हैं।सरकार के निर्देशानुसार सोशल डिस्टेंसिंग के पालन को ध्यान में रखते हुए सैनिटाइजर, मास्क आदि की व्यवस्था के साथ ही श्रद्धालुओं को प्रवेश की अनुमति दी जा रही है।

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *