गुरू ही ईश्वर तक पहुंचने का माध्यम : महंत विचार दास गुरू ही ईश्वर तक पहुंचने का माध्यम : महंत विचार दास
 इंद्रजीत यादव मगहर ,संत कबीर नगर।गुरु ही ईश्वर तक पहुंचने का सबसे बड़ा माध्यम होता है।बिना गुरू के मानव जीवन अधूरा माना जाता है।गुरू... गुरू ही ईश्वर तक पहुंचने का माध्यम : महंत विचार दास

 इंद्रजीत यादव

मगहर ,संत कबीर नगर।गुरु ही ईश्वर तक पहुंचने का सबसे बड़ा माध्यम होता है।बिना गुरू के मानव जीवन अधूरा माना जाता है।गुरू ही व्यक्ति के अन्दर दुर्गूण रूपी अन्धकार को निकाल कर सद्गुण रूपी प्रकाश देता है।उक्त बातें कबीर चौरा मगहर के महंत विचार दास ने गुर पूर्णिमा के अवसर पर आयोजित सत्संग के दौरान कही।उन्होनें कहा कि सदगुरु कबीर ने ईश्वर तक पहुंचने के लिए गुरु को प्रथम सीढ़ी बताया था। गुरु पूर्णिमा गुरु दिवस के रूप में आदि काल से चला आ रहा है। नैमिशारण तीर्थ धाम में 88 हजार ऋषि मुनियों ने एकत्रित हो कर शास्त्र के रचयिता वेद व्यास को गुरु के रूप में प्रतिष्ठित कर गुरुपूर्णिमा के दिन पूजन किया था।तभी से गुरू पूर्णिमा को गुरु दिवस के रूप में मनाये जाने की परम्परा चली आ रही है। उन्होंने कहा कि अपनी आस्था व त्याग गुरु में व्यक्त करने से अपने अंदर ऊर्जा का विकास होता है। उन्होंने बताया कि गुरु उत्सव के मौके पर संत कबीर की निर्वाण स्थली पर आए हुए श्रद्धालुओं, भक्तजनों के द्वारा गुरु महिमा का पाठ, गुरु पूजा तथा भजन संध्या के साथ ही विशाल भंडारे का आयोजन किया गया। उन्होंने बताया कि गुरु उत्सव के मौके पर प्रदेश के विभिन्न स्थानों से श्रद्धालु आये।इस दौरान कबीर समाधि पर बीजक पाठ और हवन पूजन का कार्यक्रम भी सम्पन्न हुआ।इस अवसर पर विशाल भंडारे का भी आयोजन किया गया।जिसमें सभी श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। इस मौके पर केशव दास,शान्तिदास, कल्पनाथ दास,डा अजय पाण्डेय,तिलकराम दास,विनोद दास,राम सरन दास,दिनेश दास,राम सेवक दास,राम हित प्रजापति आदि लोग मौजूद रहे।

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *