अवध विश्वविद्यालय एवं भारत मौसम विज्ञान के बीच हुआ एमओयू अवध विश्वविद्यालय एवं भारत मौसम विज्ञान के बीच हुआ एमओयू
अयोध्या। डाॅ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय एवं भारत मौसम विज्ञान विभाग, नई दिल्ली के बीच कौटिल्य प्रशासनिक भवन में मेमोरेंडम आफ अंडर स्टैंडिग (एमओयू) किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह एवं पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, नई दिल्ली के वरिष्ठ वैज्ञानिक डाॅ0 आर0के0 गिरी ने एमओयू पर हस्ताक्षार किया। मौके पर विवि के कुलसचिव उमानाथ, पृथ्वी एवं पर्यावरण विज्ञान विभाग के निदेशक प्रो0 जसवंत सिंह मौजूद रहे।       विवि के कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह ने बताया कि अयोध्या प्राचीन, धार्मिक एवं एतिहासिक नगरी है। इस पौराणिक नगरी को शीघ्र ही सुविधाएं मिलने वाली है। प्रभु श्रीराम के मन्दिर निर्माण कार्य प्रारम्भ होने से अयोध्या की महत्ता बढ़ गई है। यहां श्रद्धालुओं एवं पर्यटकों की संख्या में लगातार में वृद्धि हो रही है। विश्वविद्यालय एवं भारत मौसम विज्ञान विभाग के बीच हुए एमओयू से जलवायु संबंधी सूचनाओं का लाभ न केवल शैक्षणिक संस्थानों को प्राप्त होगा बल्कि अयोध्यावासियों एवं बाहर से आये श्रद्धालुओं को सटीक जानकारी प्राप्त हो सकेगी। कुलपति ने बताया कि वैज्ञानिकों के अनुसंधान से आईएसएसडी से मौसम सम्बन्धी डाटा प्राप्त किया जायेगा। इसके साथ ही विश्वविद्यालय शीघ्र ही भारत मौसम विज्ञान विभाग के सहयोग से वेधशाला का निर्माण करायेगा। जिससे मौसम सम्बन्धी सभी आंकड़ों को एकत्र का उन पर शोध किया जायेगा। पृथ्वी एवं पर्यावरण विज्ञान विभाग के निदेशक प्रो0 जसवंत सिंह ने बताया कि इस एमओयू से विवि के शिक्षकों, शोधार्थियों एवं छात्र-छात्राओं के वैज्ञानिक सहयोग से भविष्य में नई परियोजना का लाभ प्राप्त होगा। इसके अतिरिक्त भारत मौसम विज्ञान विभाग के साथ शोध करने का सुनहरा अवसर प्राप्त होगा। अवध विश्वविद्यालय एवं भारत मौसम विज्ञान के बीच हुआ एमओयू

अयोध्या। डाॅ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय एवं भारत मौसम विज्ञान विभाग, नई दिल्ली के बीच कौटिल्य प्रशासनिक भवन में मेमोरेंडम आफ अंडर स्टैंडिग (एमओयू) किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह एवं पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, नई दिल्ली के वरिष्ठ वैज्ञानिक डाॅ0 आर0के0 गिरी ने एमओयू पर हस्ताक्षार किया। मौके पर विवि के कुलसचिव उमानाथ, पृथ्वी एवं पर्यावरण विज्ञान विभाग के निदेशक प्रो0 जसवंत सिंह मौजूद रहे।

      विवि के कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह ने बताया कि अयोध्या प्राचीन, धार्मिक एवं एतिहासिक नगरी है। इस पौराणिक नगरी को शीघ्र ही सुविधाएं मिलने वाली है। प्रभु श्रीराम के मन्दिर निर्माण कार्य प्रारम्भ होने से अयोध्या की महत्ता बढ़ गई है। यहां श्रद्धालुओं एवं पर्यटकों की संख्या में लगातार में वृद्धि हो रही है। विश्वविद्यालय एवं भारत मौसम विज्ञान विभाग के बीच हुए एमओयू से जलवायु संबंधी सूचनाओं का लाभ न केवल शैक्षणिक संस्थानों को प्राप्त होगा बल्कि अयोध्यावासियों एवं बाहर से आये श्रद्धालुओं को सटीक जानकारी प्राप्त हो सकेगी। कुलपति ने बताया कि वैज्ञानिकों के अनुसंधान से आईएसएसडी से मौसम सम्बन्धी डाटा प्राप्त किया जायेगा। इसके साथ ही विश्वविद्यालय शीघ्र ही भारत मौसम विज्ञान विभाग के सहयोग से वेधशाला का निर्माण करायेगा। जिससे मौसम सम्बन्धी सभी आंकड़ों को एकत्र का उन पर शोध किया जायेगा। पृथ्वी एवं पर्यावरण विज्ञान विभाग के निदेशक प्रो0 जसवंत सिंह ने बताया कि इस एमओयू से विवि के शिक्षकों, शोधार्थियों एवं छात्र-छात्राओं के वैज्ञानिक सहयोग से भविष्य में नई परियोजना का लाभ प्राप्त होगा। इसके अतिरिक्त भारत मौसम विज्ञान विभाग के साथ शोध करने का सुनहरा अवसर प्राप्त होगा।

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *