एनटीपीसी टांडा के कोविड-19 वॉरियर एनटीपीसी टांडा के कोविड-19 वॉरियर
डॉ मनीराम वर्मा अंबेडकर नगर हमारा पूरा देश बहादुरी से कोविंड-19 की दूसरी लहर से लड़ रहा है। एनटीपीसी टाढा भी इससे अछूता नहीं... एनटीपीसी टांडा के कोविड-19 वॉरियर

डॉ मनीराम वर्मा

अंबेडकर नगर

हमारा पूरा देश बहादुरी से कोविंड-19 की दूसरी लहर से लड़ रहा है। एनटीपीसी टाढा भी इससे अछूता नहीं है। जब अप्रैल की शुरुआत में मामले बढ़ने लगे तो आरोग्यम चिकत्सालय, एनटीपीसी टाडा का मेडिकल और पैरामेडिकल स्टाफ कर्मचारियों, परिवार के सदस्यों, सहयोगियों और आम जनता के बचाव में आया। शुरुआत से ही उन्होंने कोविड-19 के खिलाफ एक शानदार लड़ाई लड़ी है, कई लोगों का इलाज किया और अनगिनत लोगों की जान बचाने में कामयाब रहे। ये वास्तविक अर्थों में एनटीपीसी टांडा के कोविड 19 वॉरियर यानी योद्धा है।दूसरी लहर से लड़ाई के बारे में बताते हुए डॉ उदयन तिवारी, सीएमओ (एनटीपीसी टोडा) ने कहा, ” संक्रमण के दर को देखते हुए हमने कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए अस्पताल के सभी संसाधन समर्पित किए हैं। हम सभी लक्षणात्मक लोगों की तुरंत टेस्टिंग कर रहे हैं और हर मामले पर कड़ी नजर रख रहे हैं। हल्के लक्षणों वाले लोगों को घर पर या सभी व्यवस्थाओं से लैस आइसोलेशन ब्लॉक में रखा जा रहा है, जबकि अन्य का इलाज अस्पताल में किया जा रहा है। हम किसी भी स्थिति से निपटने और सर्वोत्तम देखभाल प्रदान करने के लिए आवश्यक सभी चिकित्सा उपकरणों के साथ पूर्ण रूप से तैयार हैं रोगियों को उनके घरों या आइसोलेशन ब्लॉक तक दवाइयां पहुंचाई जा रही है। हम गंभीर मामलों के लिए अन्य अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन की व्यवस्था करवा रहे हैं। सभी पात्र लोगों को टीकाकरण भी प्रदान किया जा रहा है। जिला प्रसाशन ने भी हमें भरपूर योगदान दिया है जिसके हम शुक्रगुजार है मुझे अपनी मेडिकल टीम के साथ-साथ पैरामेडिकल स्टाफ पर भी गर्व है, जो सभी कोविड- 19 रोगियों की भलाई के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं।

एनटीपीसी टांडा ने दूसरी लहर से लड़ने के लिए रणनीति बनाई है। डॉ रवीन्द्र, सीनियर कंसल्टेंट (मेडिसिन) ने कहा, “हमने एक टास्क फोर्स बनाया है जो मरीजों के लक्षण विश्लेषण और टेस्टिंग के लिए जिम्मेदार है। यह हमारा प्रोटोकॉल है कि यदि रोगी रोगसूचक है तो टेस्टिंग के परिणामों की प्रतीक्षा न करें हम तुरंत उपचार शुरू करते हैं और प्रत्येक मामले को मॉनिटर करते हैं। यदि रोगी को 6वें दिन के बाद बुखार है, तो हम तुरंत उन्हें एडमिट करते हैं और आवश्यक उपचार प्रदान करते हैं। मेरा मानना है कि इस व्यवस्थित दृष्टिकोण ने हमें कई लोगों का जीवन बचाने में मदद की है। हम आम जनता को भी परामर्श प्रदान कर रहे हैं। यह हमारे डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ के योगदान के बिना संभव नहीं था।

जब उनसे पूछा गया कि यह कोविड-19 से बचाव के लिए जनता को क्या संदेश देंगे तो उन्होंने कहा, “यह महत्वपूर्ण है। कि रोगियों को पता हो कि उन्हें अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा कैसे करनी है। उन्हें लक्षणों की अनदेखी नहीं करनी चाहिए और पता होना चाहिए कि अस्पताल कब आना है।”एनटीपीसी टोडा के डॉक्टर और चिकित्सा विशेषज्ञ कोविड रोगियों के लिए निरंतर काम कर रहे हैं, वहीं पैरामेडिकल स्टाफ ने भी अपना भरपूर योगदान दिया है। रेनू शर्मा, स्टाफ नर्स ने कहा, “हमारा पैरामेडिकल स्टाफ बिना किसी शिकायत के प्रत्येक दिन ओवरटाइम काम कर रहा है। वे अस्पताल को विसंक्रमित कर रहे हैं, हमारे रोगियों के लिए साफ सफाई और आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति सुनिश्चित कर रहे हैं ताकि हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोगमुक्त होने में मदद कर सकें। हम प्रतिदिन अनगिनत रोगियों की देखभाल करते हैं। हमारे अस्पताल में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को सर्वोत्तम सुविधाएं और देखभाल प्रदान करने के लिए सब कुछ करना हमारा परम कर्तव्य है। एनटीपीसी टांडा के कोविड-19 वॉरियर की मदद के बिना दूसरी लहर के खिलाफ लड़ाई संभव नहीं है।

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *