गरीबों की सेवा मानवता की सच्ची परिचायक:सूर्यकांत पांडेय गरीबों की सेवा मानवता की सच्ची परिचायक:सूर्यकांत पांडेय
अयोधया। जिले में ब्लड मैन के नाम से प्रख्यात आकाश गुप्त के पिता व अजीवन सामाजिक सरोकार से जुड़े कृष्णा लाल गुप्त के 30वी... गरीबों की सेवा मानवता की सच्ची परिचायक:सूर्यकांत पांडेय

अयोधया। जिले में ब्लड मैन के नाम से प्रख्यात आकाश गुप्त के पिता व अजीवन सामाजिक सरोकार से जुड़े कृष्णा लाल गुप्त के 30वी पुण्य तिथि पर अयोधया के श्रवण कुंज मंदिर ,नया घाट  स्थित महिला वृद्धा आश्रम में मेजर ध्यान चंद खेल उत्थान समिति के बैनर तले सभी महिलाओं को दैनिक उपयोगी वस्तुएं साबुन, सर्फ़, तेल, मास्क, सेनिटाइजर, मार्टिन, शैम्पू इत्यादि सामानों का वितरण किया गया,जिसका शुभारम्भ स्वर्गीय गुप्ता जी की धर्मपत्नी श्रीमती देवी व पौत्री सौम्या कसौधन ने किया।
  इस मौके पर शहीद शोध संस्थान के प्रबन्ध निदेशक सूर्यकांत पांडेय ने कहा कि गरीबों की सेवा मानवता की सच्ची परिचायक है और  स्व कृष्णा लाल गुप्त जी के कृत्यों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि स्व गुप्त जी हमारे सहपाठी रह चुके है और विद्यार्थी जीवन मे ही लोगों की मदद करना उनके स्वभाव में था और जीवन पर्यंत सामाजिक सरोकार से जुड़े रहें और आज के ही दिन तीस साल पहले पंजाब में आतंकवादियों ने दहशत फैलाने के उद्देश्य से एक सार्वजनिक प्रतिष्ठान को अपने कब्जे में ले लिया था और कृष्ण लाल गुप्त वहां मौजूद थे और निहत्थे आतंकवादियों से भिड़ गए जिसकी कीमत इन्हें अपनी जान देकर चुकानी पड़ी।
  सँस्था सरंक्षक राजेश चौबे जी ने कहा कि गरीबों की सेवा के लिए सामर्थ्य वान लोगों को आगे आना चाहिए । गरीब और मजबूर लोगों की सेवा ही सच्ची सेवा है।
  जिले में रक्तदान की मुहिम को जन जन तक पहुचाने वाले  संस्था के अध्यक्ष आकाश गुप्त ने कहा कि कोरोना काल मे संस्था द्वारा 450 लोगों को ब्लड मुहैया कराया गया है और समाजसेवा की प्रेरणा  हमें विरासत में पिता जी से मिला है। जिले के जरूरतमंद कभी भी सम्पर्क करके  बिना किसी शर्त के ब्लड प्राप्त कर सकते है।  महिला वृद्धा आश्रम की अधीक्षक मीना अवस्थी और कॉउसलर नीलम श्रीवास्तव ने कहा कि  गरीबो व बेबस लोगों  की सेवा को कलयुग में सबसे पुनीत कार्य है।  समान वितरित कराने में हिमांसी त्रिपाठी,स्मिता पाण्डेय,देव नारायण चौरसिया आदि का सराहनीय योगदान रहा।

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *