नियुक्ति में फ़र्जीवाड़ा,तत्कालीन कुलपति समेत चार के खिलाफ एफ़आईआर नियुक्ति में फ़र्जीवाड़ा,तत्कालीन कुलपति समेत चार के खिलाफ एफ़आईआर
अयोध्या। कुमारगंज अयोध्या में आचार्य नरेंद्रदेव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कुमारगंज में 16 वर्ष पूर्व हुई फर्जी नियुक्तियों का मामला गरमा गया है।उच्च न्यायालय... नियुक्ति में फ़र्जीवाड़ा,तत्कालीन कुलपति समेत चार के खिलाफ एफ़आईआर

अयोध्या। कुमारगंज अयोध्या में आचार्य नरेंद्रदेव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कुमारगंज में 16 वर्ष पूर्व हुई फर्जी नियुक्तियों का मामला गरमा गया है।
उच्च न्यायालय के आदेश पर सतर्कता अधिष्ठान द्वारा की गई जांच में विश्वविद्यालय में हुए नियुक्ति फर्जीवाड़े का खुलासा होने के बाद सतर्कता अधिष्ठान के इंस्पेक्टर ने कुमारगंज थाने में तत्कालीन कुलपति बीबी सिंह सहित चार लोगों के विरुद्ध गंभीर आपराधिक धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कराया है।बताते चलें कि नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज के कुलपति पद पर बीते वर्ष 2001 से 2003 तक कुलपति के रूप में डॉ बी बी सिंह की तैनाती रही इस बीच विश्वविद्यालय के वस्तु विशेषज्ञ फसल सुरक्षा के 3 पदों पर नियुक्ति हेतु विज्ञप्ति जारी की गई थी।
वस्तु विशेषज्ञ फसल सुरक्षा पद पर चयनित अभ्यर्थियों में प्रथम स्थान पर डॉ अरविंद कुमार सिंह एवं द्वितीय स्थान पर रुद्र प्रताप सिंह तथा तृतीय स्थान पर किसी अन्य का नाम चयनित किए जाने के बाद विश्व विद्यालय की प्रबंधक परिषद समिति द्वारा अनुमोदित करते हुए 26 फरवरी 2004 को तत्कालीन कुलपति डॉ बी बी सिंह के पास पत्रावली भेज दी गई थी।आरोप है की कुलपति द्वारा क्रम संख्या 3 पर चयनित अभ्यर्थी के नाम के स्थान पर सफेदा लगाकर उसमें डॉ प्रमोद कुमार सिंह का नाम अंकित करा दिया गया काली स्याही वाली पेन से कूट रचना करके आपराधिक षड्यंत्र कर उसी विज्ञप्ति पर दिनांक 17 अगस्त 2004 को क्रमशः डॉ अरविंद कुमार सिंह एवं डॉ रूद्र प्रताप सिंह को नियुक्ति पत्र जारी कर दिया गया।उसके बाद 27 दिसंबर 2004 को डॉ प्रमोद कुमार सिंह को भी नियुक्ति पत्र जारी कर दिया गया किंतु फर्जीवाड़े के इस मामले ने तूल पकड़ लिया तथा मामला उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ जा पहुंचा। मामला अत्यंत गंभीर होने के चलते उच्च न्यायालय ने 16 जनवरी 2017 को न्यायालय में योजित रिट विनोद कुमार सिंह बनाम कुलपति एनडी यूनिवर्सिटी कुमारगंज में आदेश पारित करते हुए मामले की खुली जांच पुलिस विभाग के सतर्कता अधिष्ठान से कराए जाने के आदेश दे दिये।
विश्वविद्यालय की तीन पदों पर नियुक्ति के फर्जीवाड़े की जांच सतर्कता अधिष्ठान के इंस्पेक्टर विजय कुमार यादव ने की जहां महत्वपूर्ण पदों पर की गई फर्जी नियुक्ति का जिन्न बाहर आ गया।असलियत उजागर हो जाने के बाद इंस्पेक्टर  विजय कुमार यादव ने फर्जी नियुक्ति प्रकरण की जांच के प्रकाश में आए विश्वविद्यालय के तत्कालीन कुलपति डॉ बीबी सिंह, ओम प्रकाश गौड़ वरिष्ठ लिपिक कृषि विश्वविद्यालय कुमारगंज, डॉ प्रमोद कुमार सिंह विषय वस्तु विशेषज्ञ फसल सुरक्षा कृषि विज्ञान केंद्र बंसुली महाराजगंज तथा विनोद कुमार सिंह वस्तु विशेषज्ञ फसल सुरक्षा कृषि विज्ञान केंद्र अंबापुर सीतापुर के विरुद्ध मुकदमा कायम किए जाने हेतु तहरीर दी।बताते चले की
डॉ प्रमोद कुमार सिंह इस समय सोनभद्र में तैनात है तहरीर के आधार पर थाना अध्यक्ष कुमारगंज अजय कुमार सिंह ने कुलपति सहित उपरोक्त चारों लोगों के विरुद्ध धारा 420/ 467/468/471 एवं 120 बी आईपीसी तथा भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा कायम कर लिया है।फिलहाल गंभीर प्रकरण में मुकदमा कायम किए जाने के बाद मुकदमे की विवेचना सतर्कता अधिष्ठान के सुपुर्द कर दी गई है।हालांकि पुलिस मामले में अभी किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकी है।

ReplyForward

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *