सामाजिक विकास में विज्ञान का अतुलनीय योगदानः कुलपति सामाजिक विकास में विज्ञान का अतुलनीय योगदानः कुलपति
अयोध्या। डाॅ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के संत कबीर सभागार में आज 23 जनवरी, 2021 को जीव विज्ञान विभाग एवं पृथ्वी एवं पर्यावरण संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में समाज के लिए विज्ञान विषय पर एक दिवसीय कांफ्रेस का आयोजन किया गया। कांफ्रेस को संबोधित करते हुए विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह ने कहा कि विज्ञान एक मूल है। सामाजिक विकास में विज्ञान का अतुलनीय योगदान है। कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए वैक्सीन का निर्माण विज्ञान की देन है। इससे पूरे विश्व में फैली इस महामारी से बचा ज सकता है। विज्ञान का प्रमुख कार्य जीवन में उत्तरोत्तर सुधार है।      विशिष्ट अतिथि के रूप में इंस्टीट्यूट आॅफ मेडिकल साइंस, बीएचयू, वाराणसी के वैज्ञानिक प्रो0 गोपाल नाथ ने कहा कि सूक्ष्म जीवों का अध्ययन एक अदृश्य विज्ञान है। इसी के तहत वैज्ञानिक एक शोध छात्र जीवाणु का भोजन करने वाले विषाणु को बैक्टीरियोफाज कहा जाता है। इसी का प्रयोग करके गंभीर संक्रमण को ठीक किया जा सकता है। जब विभिन्न प्रकार के एन्टीबायोटिक निष्प्रभावी हो जाते है तब घावों को भरने के लिए बैक्टीरियोफाज का प्रयोग सफलता पूर्वक मरीज को बगैर नुकसान पहुॅचाये उपचार हो सकता है। शुगर के मरीजों पर भी इसका प्रभावशाली इलाज किया जा सकता है।      विशिष्ट अतिथि भारत मौसम विज्ञान विभाग, नई दिल्ली के डाॅ0 के0के0 सिंह ने कहा कि रडार एवं जीपीएस की मदद से मौसम का पूर्वानुमान लगाया जाता है। इस तकनीक की मदद से प्राकृतिक आपदाओं से बचाव में काफी मदद मिलती है। कार्यक्रम में भू-मंत्रालय नई दिल्ली के डाॅ0 जेपी सिंह ने कहा कि भूगर्भ विज्ञान सतह के भीतर हो रहे बदलाव के अध्ययन से उसके तथ्यों का पता लगाता है जिसमें उसका असर मानवीय जीवन में प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से कितना एवं किस प्रकार होगा। मानवीय जीवन में पृथ्वी के भीतर की गतिविधियों दूरगामी असर होता है।     कार्यक्रम का शुभारम्भ माॅ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्ज्वलन करके किया गया। अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ एवं स्मृति चिन्ह भेटकर किया गया। कार्यक्रम संचालन प्रो0 शैलेन्द्र कुमार ने किया। धन्यवाद ज्ञापन प्रो0 जसवंत सिंह द्वारा किया गया। इस अवसर पर प्रो0 राजीव गौड़, प्रो0 नीलम पाठक, प्रो0 विनोद श्रीवास्तव, प्रो0 सिद्धार्थ शुक्ला, प्रो0 तुहिना वर्मा, डाॅ0 आरके सिंह, डॉ0 रंजन सिंह, डाॅ0 विनोद चैधरी, डाॅ0 शिवी श्रीवास्तव, डाॅ0 अनिल कुमार, रूद्र प्रताप सिंह, डॉ पंकज सिंह, प्रदीप सिंह, अनुराग सिंह, डॉ0 आशुतोष त्रिपाठी सहित अन्य शिक्षक एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे। सामाजिक विकास में विज्ञान का अतुलनीय योगदानः कुलपति

अयोध्या। डाॅ0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के संत कबीर सभागार में आज 23 जनवरी, 2021 को जीव विज्ञान विभाग एवं पृथ्वी एवं पर्यावरण संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में समाज के लिए विज्ञान विषय पर एक दिवसीय कांफ्रेस का आयोजन किया गया। कांफ्रेस को संबोधित करते हुए विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह ने कहा कि विज्ञान एक मूल है। सामाजिक विकास में विज्ञान का अतुलनीय योगदान है। कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए वैक्सीन का निर्माण विज्ञान की देन है। इससे पूरे विश्व में फैली इस महामारी से बचा ज सकता है। विज्ञान का प्रमुख कार्य जीवन में उत्तरोत्तर सुधार है।

     विशिष्ट अतिथि के रूप में इंस्टीट्यूट आॅफ मेडिकल साइंस, बीएचयू, वाराणसी के वैज्ञानिक प्रो0 गोपाल नाथ ने कहा कि सूक्ष्म जीवों का अध्ययन एक अदृश्य विज्ञान है। इसी के तहत वैज्ञानिक एक शोध छात्र जीवाणु का भोजन करने वाले विषाणु को बैक्टीरियोफाज कहा जाता है। इसी का प्रयोग करके गंभीर संक्रमण को ठीक किया जा सकता है। जब विभिन्न प्रकार के एन्टीबायोटिक निष्प्रभावी हो जाते है तब घावों को भरने के लिए बैक्टीरियोफाज का प्रयोग सफलता पूर्वक मरीज को बगैर नुकसान पहुॅचाये उपचार हो सकता है। शुगर के मरीजों पर भी इसका प्रभावशाली इलाज किया जा सकता है।

     विशिष्ट अतिथि भारत मौसम विज्ञान विभाग, नई दिल्ली के डाॅ0 के0के0 सिंह ने कहा कि रडार एवं जीपीएस की मदद से मौसम का पूर्वानुमान लगाया जाता है। इस तकनीक की मदद से प्राकृतिक आपदाओं से बचाव में काफी मदद मिलती है। कार्यक्रम में भू-मंत्रालय नई दिल्ली के डाॅ0 जेपी सिंह ने कहा कि भूगर्भ विज्ञान सतह के भीतर हो रहे बदलाव के अध्ययन से उसके तथ्यों का पता लगाता है जिसमें उसका असर मानवीय जीवन में प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से कितना एवं किस प्रकार होगा। मानवीय जीवन में पृथ्वी के भीतर की गतिविधियों दूरगामी असर होता है।

    कार्यक्रम का शुभारम्भ माॅ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्ज्वलन करके किया गया। अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ एवं स्मृति चिन्ह भेटकर किया गया। कार्यक्रम संचालन प्रो0 शैलेन्द्र कुमार ने किया। धन्यवाद ज्ञापन प्रो0 जसवंत सिंह द्वारा किया गया। इस अवसर पर प्रो0 राजीव गौड़, प्रो0 नीलम पाठक, प्रो0 विनोद श्रीवास्तव, प्रो0 सिद्धार्थ शुक्ला, प्रो0 तुहिना वर्मा, डाॅ0 आरके सिंह, डॉ0 रंजन सिंह, डाॅ0 विनोद चैधरी, डाॅ0 शिवी श्रीवास्तव, डाॅ0 अनिल कुमार, रूद्र प्रताप सिंह, डॉ पंकज सिंह, प्रदीप सिंह, अनुराग सिंह, डॉ0 आशुतोष त्रिपाठी सहित अन्य शिक्षक एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

Times Todays News

No comments so far.

Be first to leave comment below.

Your email address will not be published. Required fields are marked *